Monthly Archives: February 2012

Aafreen Aafreen / Javed Akhtar

उसने जाना की तारीफ़ मुमकिन नहीं आफरीं-आफरीं… तू भी देखे अगर, तो कहे हमनशीं आफरीं-आफरीं… हुस्न-ए-जाना… ऐसा देखा नहीं खूबसूरत कोई जिस्म जैसे अजंता की मूरत कोई जिस्म जैसे निगाहों पे जादू कोई जिस्म नगमा कोई, जिस्म खुशबू कोई जिस्म … Continue reading

Posted in Javed Akhtar, Nusrat Fateh Ali Khan | Tagged | 1 Comment

दिन में कब सोचा करते थे / Din Mein Kab Socha Karte They

दिन में कब सोचा करते थे सोएंगे हम रात कहाँ, अब ऐसे आवारा घूमें अपने वो हालात कहाँ, तब थे तेज़ रवी पर नादान अब मंज़िल पर तनहा हैं, सोच रहे हैं इन हाथों से छूटा था वो हाथ कहाँ, … Continue reading

Posted in Nusrat Fateh Ali Khan | Tagged , | Leave a comment

ये जो दीवाने से / Yeh Jo Deewane Se / Sagar

ये जो दीवाने से दो चार नज़र आते हैं, इन में कुछ साहिब-ए-असरार नज़र आते हैं तेरी महफ़िल का भरम रखते हैं सो जाते हैं, वरना ये लोग तो बेदार नज़र आते हैं दूर तक कोई सितारा है न कोई … Continue reading

Posted in Sagar | Tagged | Leave a comment

Baat Turi / Dr. Jagtar

ਜਦ ਵੀ ਡਿੱਗੀਆਂ ਛੱਤਾਂ , ਖ਼ਸਤਾ ਘਰ ਬਾਰਾਂ ਦੀ ਬਾਤ ਤੁਰੀ, ਰਸਤੇ ਵਿੱਚ ਦੀਵਾਰਾਂ ਬਣੀਆਂ, ਦੀਵਾਰਾਂ ਦੀ ਬਾਤ ਤੁਰੀ || ਸ਼ੀਸ਼ਿਆਂ ਅੰਦਰ ਫ਼ੁੱਲ ਖਿੜ ਉੱਠੇ,ਨੱਚਿਆ ਖੂਨ ਰਗਾਂ ਅੰਦਰ, ਮੈਖਾਨੇ ਵਿੱਚ ਜਦ ਜਿੰਦਾ-ਦਿਲ ਮੈਖਾਰਾਂ ਦੀ ਬਾਤ ਤੁਰੀ || ਡੁੱਬਦੇ ਡੁੱਬਦੇ ਦਿਲ … Continue reading

Posted in Dr. Jagtar | Tagged | Leave a comment